Day: March 4, 2019

लड़ाकू विमान एफ-16 के गलत इस्तेमाल पर अमेरिकी प्रशासन ने पाक से किया जवाब तलब (दैनिक जागरण)

भारतीय वायुसेना की साहसिक कार्रवाई के दौरान विंग कमांडर अभिनंदन की ओर से पाकिस्तानी लड़ाकू विमान एफ-16 को मार गिराने के बाद यह आवश्यक हो गया था कि अमेरिकी प्रशासन पाकिस्तान से इसे लेकर जवाब तलब करता कि उसने भारत के खिलाफ इस विमान का इस्तेमाल क्यों किया? यह अच्छा हुआ कि अमेरिका ऐसा करता...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

ओआइसी में भारत के बढ़ते कद और पाकिस्तान को नजरअंदाज करने का मिला प्रमाण (दैनिक जागरण)

यह बहस तो अभी लंबी खिंचेगी कि पाकिस्तान मूलत: किन कारणों से भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को आनन-फानन रिहा करने पर सहमत हो गया, लेकिन इसमें कोई संशय नहीं कि उसे इस्लामी देशों के सबसे बड़े समूह ओआइसी यानी इस्लामिक सहयोग संगठन में मुंह की खानी पड़ी। यह बेहद महत्वपूर्ण है कि...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

कांग्रेस पर हावी आपातकाल की मानसिकता: राफेल पर राहुल खुद को सही साबित करना चाहते हं (दैनिक जागरण)

[ सुरेंद्र किशोर ]: जब यह माना जा रहा था कि पाकिस्तान से युद्ध जैसे हालात को देखते हुए राहुल गांधी कुछ दिनों के लिए अपने राफेल राग पर लगाम लगाएंगे तब उन्होंने एक बार फिर राफेल सौदे को लेकर ‘चौकीदार चोर’ का अपना नारा उछाला। इतना ही नहीं उन्होंने तथ्यों से मुंह चुराते हुए...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

जलवायु परिवर्तन के जिम्मेदार हम खुद हं तो इससे मुक्त होने के रास्ते भी हमें ही खोजने होंगे (दैनिक जागरण)

[ डॉ. अनिल प्रकाश जोशी ]: पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी सियोल यात्रा के दौरान एक महत्वपूर्ण बात कही कि हमारी जीवनशैली जलवायु परिवर्तन के बड़े कारणों में से एक है। यह बात शत-प्रतिशत सही है कि हमने जिस तरह की जीवनशैली अपना रखी है वह एक दिन हम सबको डुबो देगी या...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

एफ-16 को ठिकाने लगाने वाला भारतीय पायलट अभिनंदन की रिहाई इमरान की मजबूरी थी (दैनिक जागरण)

[ साकेत सूर्येश ]: कुछ लोगों की समझ से युद्ध के बादल छंट गए हैं और शांति की बंसी की ध्वनि चहुंओर फैली हुई है। ऐसे लोगों की नजर में भारत का वातावरण ‘शांति के नए दूत’ इमरान की जयजयकार से गुंजायमान होने को आतुर है। समय बहुत कठिन है, चुनाव सिर पर हैं। मोदीजी...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

कूटनीति का नया आयाम: यदि पाक से आतंकी हमले नहीं रुके तो भारत बालाकोट की तरह सख्त जवाब देगा (दैनिक जागरण)

[ संजय गुप्त ]: पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर भयावह आतंकी हमले में 40 जवानों की शहादत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को आश्वस्त किया था कि इसका हिसाब लिया जाएगा। उन्होंने यह भी कहा था कि अगर आतंक की फैक्ट्री को बंद करने की जिम्मेदारी उन पर ही आ गई है...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Pulwama terror attack: आतंक पर किया जाए निर्णायक प्रहार (दैनिक जागरण)

एनके सिंह। गुरुवार को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपनी संसद में भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की रिहाई का एलान किया। इससे पहले पाकिस्तान ने भारत के साथ सौदेबाजी की जो कोशिश की थी वह उसके मानसिक दिवालियेपन का ही परिचायक था। इसमें पाकिस्तान न सिर्फ जेनेवा कन्वेंशन की अनदेखी कर...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Pulwama Terror Attack: सोशल मीडिया का खतरनाक इस्तेमाल (दैनिक जागरण)

विराग गुप्ता। पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हमले के लिए आधुनिक सामरिक तकनीक के साथ सोशल मीडिया का भी बखूबी इस्तेमाल किया गया। पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मुहम्मद द्वारा हमलावर आदिल अहमद के सोशल मीडिया के माध्यम से जारी वीडियो से कश्मीर में आतंक के नए रक्तबीज पनपेंगे। इस प्रसारण से तकनीक के विनाशकारी...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

बेघर हो सकते हैं लाखों आदिवासी (पंजाब केसरी)

गत दिनों दिए गए सुप्रीम कोर्ट के एक आदेश के बाद 10 लाख से अधिक आदिवासियों और जंगलों में रह रहे परिवारों पर बेघर होने की तलवार लटकने लगी है। 13 फरवरी को अपने आदेश में कोर्ट ने कहा कि ‘जंगल के भीतर रहने वाली आदिवासी जनजाति’ और ‘जंगल में रहने वाले अन्य पारम्परिक’ लोगों...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

‘आवारा कुत्तों का कहर’ सहमा हर गांव और हर शहर (पंजाब केसरी)

देश में आवारा कुत्तों की लगातार बढ़ रही संख्या पर नियंत्रण पाने की कोई ठोस नीति न होने के कारण इनकी संख्या बढऩे के साथ-साथ उसी अनुपात में इनका कहर और लोगों की परेशानियां बढ़ती जा रही हैं। आवारा कुत्तों द्वारा लोगों को काटने की घटनाओं पर चिंता व्यक्त करते हुए 25 फरवरी को सुप्रीमकोर्ट...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register