Day: March 2, 2019

तनाव नज़रअंदाज़ कर दीर्घकालीन हो निवेश (दैनिक ट्रिब्यून)

आलोक पुराणिक भारत-पाक के तनावों के बीच कई निवेशकों के तनाव भी बढ़ जाते हैं। बस लगता है कि सब डूबने वाला है। निवेश जगत में बहुत गलत फैसले तब होते हैं, जब निवेशक डर या हताशा में हो या अधिक खुशी और आशा की अवस्था में हो। अतिरेक में विवेक गायब हो जाता है।...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

युद्ध सहने में सक्षम नहीं पाक आर्थिकी (दैनिक ट्रिब्यून)

जयंतीलाल भंडारी यकीनन 26 फरवरी को भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों के पाकिस्तान की सीमा में घुसकर आतंकी ठिकानों को ध्वस्त करने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध की आशंकाएं जताई जा रही थीं। निश्चित रूप से यदि भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध के हालात बनते तो यह दोनों देशों की अर्थव्यवस्थाओं...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

खरीद में बिचौलिये (दैनिक ट्रिब्यून)

किसानों को फसल का उचित और लाभकारी मूल्य मिले, हर जनहितकारी सरकार का यह कर्तव्य है। आम चुनाव के मौके व तीन राज्यों के परिणामों में किसानों का गुस्सा रंग दिखा चुका हो तो हर कोई किसान की बात कर रहा है। ऐसे में किसानों की फसलों का मूल्य सीधे उनके खाते में जमा करने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अमन की ओर कदम (नवभारत टाइम्स)

विंग कमांडर अभिनंदन की वापसी के साथ भारत-पाक के बीच चला आ रहा तनाव कम होने की उम्मीद है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा कि वह शांति कायम करने के इरादे से अभिनंदन को भारत को सौंप रहे हैं। हालांकि इस संबंध में उन्होंने जिस तरह बयान बदले, उससे लगा कि इस फैसले...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

वनवासियों का हित (नवभारत टाइम्स)

सुप्रीम कोर्ट ने करीब 12 लाख वनवासियों को राहत देते हुए उन्हें बेदखल करने के अपने ही आदेश पर फिलहाल रोक लगा दी है। कोर्ट की एक बेंच ने 13 फरवरी को 16 राज्यों के करीब 11.8 लाख वनवासियों के वन-भूमि पर कब्जे के दावों को खारिज करते हुए राज्य सरकारों को आदेश दिया था...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

उर्वर अवसर का उपयोग (राष्ट्रीय सहारा)

पुलवामा में फिदायीन हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच युद्धपूर्व की पृष्ठभूमि में भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) के 57 सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों को संबोधित करने का सुनहरा अवसर मिला। नई दिल्ली के लिए ऐसा अवसर है कि मुस्लिम जगत के साथ अपने रिश्तों का विस्तार...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पाकिस्तान का झूठ (राष्ट्रीय सहारा)

दो देशों के बीच युद्ध केवल हथियारों के सहारे ही नहीं लड़ा जाता, प्रचार-प्रसार माध्यमों के जरिये मनोवैज्ञानिक स्तर पर भी लड़ा जाता है, ताकि शत्रु देश की जनता और सेना का मनोबल तोड़ा जा सके। इसमें बढ़-चढ़ कर दावे किए जाते हैं, झूठ और दुष्प्रचार का सहारा लिया जाता है। जब पाकिस्तान की वायु...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

तालाब बचेंगे तो बचेगी सभ्यता (राष्ट्रीय सहारा)

प्रेम कुमार हिन्दुस्तान में 21वीं सदी का सबसे बड़ा सवाल यही है कि एक तरफ पानी का संकट है तो दूसरी तरफ पानी के स्रेत पर अतिक्रमण, फिर भी देश क्यों आंखें मूंदे बैठा है? फरवरी महीने में एनजीटी की बनाई कमेटी ने जब यह रिपोर्ट दी कि दिल्ली-एनसीआर में 155 जलाशयों पर अतिक्रमण है...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

खराब रिकार्ड पर पर्दादारी (राष्ट्रीय सहारा)

राजेंद्र शर्मा भारतीय वायु सेना ने पाक अधिकृत कश्मीर में ही नहीं, पाकिस्तान के काफी भीतर खैबर-पख्तूनख्वा प्रांत में बालाकोट में भी जैश-ए-मोहम्मद के कैंपों पर बमबारी कर, अपने हिसाब से पुलवामा की आतंकवादी दरिंदगी का जवाब दे दिया है। इस सर्जिकल स्ट्राइक-2 को, अगर उसकी चोट सचमुच आतंकवादियों पर ही पड़ी है तो, देश...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

OIC invitation to India is an opportunity to expand relationships in Muslim world (The Indian Express)

Written by C. Raja Mohan On the face of it, India getting an invite to address the gathering of the foreign ministers from the Organisation of Islamic Cooperation may not look like a big deal. Sceptics have long argued that the OIC has the distinction of competing with the Non Aligned Movement and the League...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register