Day: February 14, 2019

दाग दिखाते उजाले से कैसा डर (दैनिक ट्रिब्यून)

विश्वनाथ सचदेव मुम्बई की नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट का देश की कला के अतीत और वर्तमान से एक गहरा और आत्मीय रिश्ता है। हाल ही में यहां हमारे समय के महत्वपूर्ण चित्रकार प्रभाकर बर्वे के चित्रों की प्रदर्शनी आयोजित की गयी थी। होना तो यह चाहिए था कि इस आयोजन का उल्लेख अपनी कला...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

फिर हैवानियत (दैनिक ट्रिब्यून)

वर्ष 2012 के भयावह निर्भया कांड ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था। निर्भया के लिए खड़े लोगों का संगठन ऐसा था, जहां पर लोगों में सामूहिक रूप से शर्म और सद‍्भावना एक साथ थी। ऐसा प्रतीत हुआ था कि अब समाज में महिलाओं को उनकी इज्जत और सम्मान का माहौल बनेगा। फिजाओं में...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चुनावी मंच जैसा रहा सफर (राष्ट्रीय सहारा)

अनिल चमड़िया संसदीय लोकतंत्र की व्यवस्था में संसद मुख्य होती है, और 16वीं लोक सभा ने 13 फरवरी, 2019 को बजट सत्र के आखिरी दिन अपना पांच साल का कार्यकाल भी पूरा कर लिया। और इसी के साथ उम्मीद की जानी चाहिए कि राजनीतिक पार्टयिां चुनाव मैदान की तरफ बढ़ जाएंगी। 16वीं लोक सभा का...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

ढाई आखर का मर्म भी समझिए (दैनिक ट्रिब्यून)

ज्ञानेन्द्र रावत प्रेम के सम्बंध में स्वामी विवेकानंद ने कहा है कि प्रेम समय, स्थान और सीमा से परे है। प्रेम के संदर्भ में प्रख्यात दार्शनिक रजनीश का कहना है कि ‘प्रेम ही है, जिसके साथ तुम भीतर उतरते हो। दरअसल, प्रेम वर्तुल का निर्माण करता है और प्रेमी एक-दूसरे की मदद करते हैं।’ जितना...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कैसे मिटे संदेह (नवभारत टाइम्स)

नियंत्रक एवं महालेखा परीक्षक (सीएजी) की राफेल खरीद सौदे से जुड़ी बहुप्रतीक्षित रिपोर्ट आखिर राज्य सभा में पेश कर दी गई। इसमें कहा गया है कि एनडीए शासन में किया गया राफेल सौदा यूपीए सरकार के कार्यकाल में प्रस्तावित सौदे के मुकाबले 2.86 फीसदी सस्ता पड़ा। सरकार इसे अपने लिए क्लीन चिट बता रही है,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

वेलेन्टाइन डे, उभरती संस्कृति का सच (राष्ट्रीय सहारा)

डॉ. विशेष गुप्ता वेलेन्टाइन डे यानी प्रेम की एकदिवसीय आक्रामक संस्कृति का बहुरंगीय बाजार पूरे संसार में सजा है। आर्चीज के कार्ड्स, गुलाब के फूलों की दुनिया, होटल, रेस्त्रां, पब यहां तक कि सार्वजनिक स्थान भी प्रेम के बाजार की कहानी खुद ही बयां कर रहे हैं। इस दिन के जश्न में अब मीडिया भी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

A Rotten Compromise (The Indian Express)

Rajmohan Gandhi wishes us to rebuild India, return it to some civility, and restore Hindu-Muslim relations. And he feels that unless the Ram temple issue is resolved, we cannot achieve this (‘A new temple, a new mosque’, IE, February 6). Like a festering wound, it has not let the nation be at peace for decades....

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

The chief statistician replies (The Indian Express)

Written by Pravin Srivastava This is in response to the article, ‘Because data is a public good’ by P C Mohanan, former head of the National Statistical Commission (IE, February 12). The United Nations General Assembly adopted the Fundamental Principles of Official Statistics (FPOS) in January 2014. This adoption was the culmination of the efforts...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Begging the question (The Indian Express)

Written by Bibek Debroy An unstarred question on beggary was answered in the Lok Sabha on March 8, 2016, by the minister of state for social justice and empowerment. According to Census 2011, the total number of beggars and vagrants in India is 4,13,670 — 2,21,673 males and 1,91,997 females. State-wise, with an aggregate of...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Swachh Nigeria (The Indian Express)

Written by Suleiman H Adamu Nigeria is a country of great people with an estimated population of 191million as of 2018. Located in Sub-Saharan Africa, it is a large country with tremendous natural and human resources. However, Nigeria faces a critical challenge in its Water, Sanitation and Hygiene (WASH) sector. While it has made significant...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register