Day: February 13, 2019

जान देने का सिलसिला (दैनिक ट्रिब्यून)

राजकुमार सिंह कुछ समय पहले भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा था कि आगामी लोकसभा चुनाव वैचारिक युद्ध की तरह लड़ा जायेगा। युद्ध शब्द को अनुचित बताते हुए तब भी राजनीति में विचारधारा के क्षरण पर सवाल उठाये गये थे, लेकिन अब जो हो रहा है, वह तो और भी गंभीर है। वैचारिक युद्ध की...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जान देने का सिलसिला (दैनिक ट्रिब्यून)

हाल ही में पंजाब में तीन और किसानों ने आत्महत्या कर ली। नि:संदेह वे जीवनयापन के संकट के चलते खेतीबाड़ी के लिए लिये गये कर्ज की वापसी नहीं कर पा रहे थे। घटनाओं ने पिछली और वर्तमान सरकारों द्वारा घोषित किसान कर्ज माफी व अन्य कथित कल्याणकारी योजनाओं की पोल खोल दी है। हो सकता...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अमर्यादित बयानबाजी से आहत लोकतंत्र (दैनिक ट्रिब्यून)

कृष्ण प्रताप सिंह देश के राजनीतिक विमर्श के ‘राजनीतिक’ शब्द के सच्चे अर्थों में राजनीतिक होने को लेकर तो पहले से ही संदेह जताये जाते रहे हैं। उथलेपन के नये प्रतिमान रचता हुआ अब वह अश्लील भी हो चला है। कम से कम इस अर्थ में कि विरोधी दलों की महिला नेताओं पर सामंतों जैसी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

भ्रष्टाचार की मीनारें (नवभारत टाइम्स)

मुंबई का प्रख्यात प्रतिभा टावर आखिरकार 35 साल बाद ढहाया जा रहा है। इस टावर के निर्माण में बड़े पैमाने पर धांधली हुई थी। इसे देश का पहला फ्लोर स्पेस इंडेक्स (एफएसआई) घोटाला माना गया जो 1984 में तब उजागर हुआ जब तत्कालीन कलेक्टर अरुण भाटिया ने इमारत का निरीक्षण कर इसके बारे में सारी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कांग्रेस का मिशन यूपी (नवभारत टाइम्स)

कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में अपना चुनावी अभियान शुरू कर दिया है। हाल में राज्य के प्रभारी बनाए गए दोनों महासचिवों प्रियंका गांधी और ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार को पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ लखनऊ में एक रोड शो करके इसकी शुरुआत की। हाल तक लग रहा था कि कांग्रेस अपनी रणनीति सत्ताविरोधी महागठबंधन...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अल्पसंख्यक कौन (राष्ट्रीय सहारा)

सर्वोच्च न्यायालय का अल्पसंख्यक की पहचान संबंधी नया आदेश काफी महत्त्वपूर्ण है। हालांकि इससे संबंधित याचिका पर न्यायालय ने कोई मत नहीं दिया है, पर उसने याचिकाकर्ता से राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग में प्रतिवेदन देने के साथ कहा है कि आयोग तीन महीने के अंदर अपना मत दे। याचिका में अपील की गई थी कि सर्वोच्च...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

घाटा पूरा करने का सवाल (राष्ट्रीय सहारा)

हाल ही में 10 फरवरी को कार्यवाहक वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने नये अंतरिम बजट-2019 के तहत राजकोषीय घाटे के लक्ष्य से पार पाने के परिप्रेक्ष्य में घाटे को पूरा करने के लिए नये नोट छापने संबंधी व्यवस्था की वकालत की है। वस्तुत: भारतीय रिजर्व बैंक 1997 के पहले कई बार सरकार के बजट घाटे...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Who will pay for sops? (The Indian Express)

Written by Arun Kumar The Interim Union Budget 2019 is no less than a full budget with changes in taxation and announcement of lucrative schemes for various sections of the population. The recent losses in three major assembly elections rang alarm bells for the ruling dispensation. With the general election around the corner, it had...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Because data is a public good (The Indian Express)

Written by P C Mohanan William Setzer, in the working paper, “Politics and Statistics: Independence, Dependence or Interaction”, published by the UN, lists several possible areas where political interference in official data generation and publication can happen. One of these is the extent and timing of release of data. He cites several examples. Most of...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Pseudo-social justice (The Indian Express)

Written by Suhas Palshikar The Gujjars of Rajasthan are back on the streets. This could be seen as an attempt to corner the newly-formed Congress government in the state. Both Congress and BJP have had the taste of Gujjar wrath earlier. It could also be seen as an extension of intra-party factionalism playing out in...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register