Day: February 11, 2019

How to save the fragile Hindu-Kush belt (Hindustan Times)

A comprehensive assessment of the Hindu-Kush Himalaya (HKH) region by Kathmandu-based International Centre for Integrated Mountain Development (ICIMOD) has said that a 1.5°C rise in global temperature over pre-industrial levels will spell doom for the fragile ecology of the region. The report, which deals with climate change, biodiversity, energy, cryosphere (frozen water), water, food security, air...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

The Congress party faces a steep climb in Uttar Pradesh (Hindustan Times)

Congress president Rahul Gandhi will accompany the party’s new general secretaries in charge of Uttar Pradesh (UP), Priyanka Gandhi Vadra and Jyotiraditya Scindia, to Lucknow on Monday. While the fact that UP will be central to determining the shape of the next government is widely accepted, Priyanka Gandhi’s appointment has thrown up new possibilities. Could...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

अमरीकी सैनिकों की वापसी : क्या अफगानिस्तान फिर तालिबानी हो जाएगा (पंजाब केसरी)

330 ईस्वी पूर्व में सिकंदर अफगानिस्तान पहुंचा जहां उसे कबायलियों के भारी विरोध का सामना करना पड़ा। हालांकि उसका अफगानिस्तान के रास्ते से गुजरने का अभियान छोटा सा था क्योंकि यह उसके भारत आने के रास्ते में एक ठहराव मात्र था परन्तु उसने टिप्पणी की कि, ‘‘अफगानिस्तान में प्रवेश करना तो आसान है, इससे बाहर...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

अधिक राशि के बिजली बिलों से हो रहे परेशान उपभोक्ता (पंजाब केसरी)

हमारे सरकारी विभाग समय-समय पर ऐसे ‘कारनामे’ करते रहते हैं जिनसे आम आदमी को भारी परेशानी होती है। विभिन्न राज्यों के बिजली विभागों द्वारा उपभोक्ताओं को बिजली की वास्तविक खपत से कहीं अधिक राशि के बिल भेज कर परेशान किया जा रहा है :  जून, 2018 में पानीपत के एक उपभोक्ता को 8 लाख रुपए...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

समाज में ‘व्याप्त बुराइयां’ दूर करने के लिए आगे आ रहे कुछ ‘समाज सेवी समूह’ (पंजाब केसरी)

शादी-विवाहों में दहेज का लेन-देन, मृत्यु भोज और शराब का सेवन आदि ऐसी बुराइयां हैं जिनसे बड़ी संख्या में परिवार तबाह हो रहे हैं। जहां शादी पर दहेज देने की मजबूरी में अनेक परिवार कर्ज में डूब जाते हैं वहीं किसी परिजन की मृत्यु पर दिए जाने वाले मृत्यु भोज से भी शोक संतप्त परिवार...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Britain has not factored in the true cost of a Brexit brain drain (Livemint)

Should the UK go through with its withdrawal from the European Union (EU), one of the most severe unintended consequences will probably be the exodus of a significant share of top professionals from London. In fact, Paris, Frankfurt, Dublin, Amsterdam and other cities on the Old Continent are already competing to attract UK-based bankers, doctors,...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

Opinion | Can Priyanka help cong regain its lost ground in up? (Livemint)

We are passing through a unique time when media headlines impact the thought processes of people at all times. At this juncture, truth seems to be stuck between the many contradictory arguments we hear. If we look at Priyanka Gandhi Vadra’s joining active politics in this perspective, many doubts and questions will be resolved. There...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

जलवायु परिवर्तन का कहर (प्रभात खबर)

आशुतोष चतुर्वेदी प्रधान संपादक, प्रभात खबर इन दिनों दुनियाभर में सर्दी ने कहर बरपा रखा है. अगर आपने पिछले कुछ दिनों की दिल्ली और उससे सटे इलाकों की तस्वीरें देखी हों, तो उनमें सड़कें और पार्क ओलों से पटे नजर आ रहे हैं. ऐसा दृश्य इससे पहले हाल-फिलहाल में देखने को नहीं मिला. जम्मू कश्मीर,...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register

संसद में बसवन्ना, मुक्तिबोध, सर्वेश्वर (प्रभात खबर)

रविभूषण वरिष्ठ साहित्यकार संसद में समय-समय पर नेता, मंत्री, प्रधानमंत्री, कवियों की काव्य-पंक्तियां पढ़ कर तालियां बटोरते रहे हैं. कविता और कवियों से उनका लगाव नहीं होता, पर यह सिलसिला लंबे समय से चल रहा है. वित्त मंत्री अपने बजट-भाषण में कवियों को याद करते रहे हैं. क्या हम इसे राजनीतिक दलों का कवि-प्रेम या...

This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register