Day: February 8, 2019

भारत को लेकर पाकिस्तान के रवैये में आ रहे अच्छे बदलाव (पंजाब केसरी)

पूर्व क्रिकेटर और पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के नेता इमरान खान ने 18 अगस्त, 2018 को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली जिससे भारत-पाक रिश्तों में नया अध्याय शुरू होने की आशा बंधी थी। इमरान ने 29 नवम्बर, 2018 को पहली बार कहा कि ‘‘आतंकवाद के लिए पाकिस्तान की धरती का इस्तेमाल हमारे हित में...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Opinion | Why markets are lukewarm to RBI’s rate cut and development measures (Livemint)

Mobis Philipose Only a fourth of all economists surveyed by Bloomberg had anticipated a rate cut in the Reserve Bank of India’s (RBI’s) February monetary policy, even though nearly everyone was pricing in a shift in the central bank’s stance from “calibrated tightening” to “neutral”. But a look at the bond markets shows that while...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Opinion | Technology, globalization and the good jobs challenge (Livemint)

Dani Rodrik Around the world today, the central challenge for achieving inclusive economic prosperity is the creation of sufficient numbers of “good jobs”. Without productive and dependable employment for the vast majority of a country’s workforce, economic growth either remains elusive, or its benefits end up concentrated among a tiny minority. The scarcity of good...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Opinion | The monetary policy strongly emphasized The need to support growth Livemint)

B. Prasanna The first monetary policy of 2019 was also the first by the new governor at the helm of the Reserve Bank of India (RBI). The policy came against the backdrop of a supportive and benign global rate environment, as growing concerns about a broad-based global growth slowdown had piloted all central banks, including...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Opinion | A re-look into monetary policy structure needed (Livemint)

The Monetary Policy Committee’s (MPC’s) decision to cut the repo rate by 25 basis points, although surprising, may be justified, especially when the CPI inflation, as well as its expectations, are subdued and well below the 4% target. The rate cut, together with the proposals in the statement on developmental and regulatory policies, suggest the...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

दो महाशक्तियों की नूराकुश्ती (प्रभात खबर)

पुष्पेश पंतअंतरराष्ट्रीय मामलों के जानकार अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा आईएनएफ (इंटरमीडिएट रेंज न्यूक्लियर फोर्सेज) संधि को तोड़ने की घोषणा ने अंतरराष्ट्रीय राजनीति में एक अप्रत्याशित संकट पैदा कर दिया है. रूस के राष्ट्रपति पुतिन ने कड़ा रुख अपनाते हुए यह ऐलान करते देर नहीं लगायी कि बदले हालात में रूस के लिए इस ऐतिहासिक समझौते...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

भारत पर भी वेनेजुएला संकट का असर (दैनिक ट्रिब्यून)

पुष्परंजन दिल्ली से कोई साढ़े 14 हज़ार किलोमीटर की दूरी पर है दक्षिण अमेरिकी देश वेनेज़ुएला। बमुश्किल सात-आठ सौ भारतवंशी वेनेज़ुएला में ढूंढ़े से मिलेंगे, जिनमें सिंधी और गुजराती समुदाय के लोग अधिक हैं। इसलिए, वहां की राजनीतिक-आर्थिक संकट से हमारा सीधा सरोकार कम ही दिखता है। वहां खाने के लाले पड़े हुए हैं। वेनेज़ुएला...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

असरदार कर्जदार (दैनिक ट्रिब्यून)

बैंकिंग व्यवस्था में अपना सुरक्षित भविष्य देखने वाले उन तमाम खाताधारकों को यह खबर जरूर विचलित करेगी कि सरकारी बैंकों की गैर-निष्पादित आस्तियां यानी एनपीए साढ़े आठ लाख करोड़ रुपये से अधिक हो गया है। संसद में वित्तमंत्री द्वारा दिये गये एक बयान के अनुसार गत मार्च में एनपीए नौ लाख करोड़ के करीब पहुंच...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

चुनावी बिसात के लिए सब कुछ दांव पर (दैनिक ट्रिब्यून)

हरीश लखेड़ा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अक्सर अपनी कार्यशैली से सुर्खियों में रहती हैं। सीबीआई की जांच से कोलकाता के पुलिस कमिश्नर के बचाव के लिए धरने पर बैठी ममता बनर्जी संसद से सड़क तक छाई रहीं। हालांकि, ममता का यह कदम और संदेश साफ है कि वही मोदी से लड़ सकती हैं।...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

सांप्रदायिक चश्मे से न देखें संस्कृत को (प्रभात खबर)

आरके सिन्हा, सदस्य, राज्यसभा देश का वातावरण इस हद तक विषाक्त हो चुका है कि अब संस्कृत भाषा को भी सांप्रदायिकता के चश्मे से देखा जा रहा है. अब केंद्रीय विद्यालयों में प्रतिदिन सुबह होनेवाली प्रार्थना पर भी निशाना साधा जा रहा है. कहा जा रहा है कि यह संस्कृत प्रार्थना धर्मनिरपेक्ष भारत में नहीं...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register