Month: January 2019

Why government must spend more (The Indian Express)

Written by Gopal Krishna Agarwal One does not need to go too far back in history to recollect the precarious situation of the Indian economy. When the current government took over in 2014, the declared fiscal deficit was at 4.5 per cent while the actual was estimated to be in the range of 5.5 per...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

When investigation is intimidation (The Indian Express)

Written by Maneck Davar Minister Arun Jaitley’s condemnation of investigative adventurism is a clear message not just to the CBI but for all the enforcement arms of the government. It is not an effort to protect anyone or interfere in the autonomy of the investigative process. In the context of this government’s much-vaunted efforts to...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Imperfect warriors (The Indian Express)

Written by Sudha Pai(Sudha Pai is a National Fellow at ICSSR and a former professor at Jawaharlal Nehru University in New Delhi) The entry of Priyanka Gandhi into the formal organisation of the Congress party as AICC General Secretary of UP East has introduced a new element into politics in this key state. The move,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

केंद्रीय विद्यालयों में असतो मा सद्गमय, तमसो मा ज्योतिर्गमय जैसी प्रार्थना पर आपत्ति (दैनिक जागरण)

[ शंकर शरण ]: सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ अब इस पर विचार करेगी कि केंद्रीय विद्यालयों में बच्चों को संस्कृत में प्रार्थना करना उचित है या नहीं? असतो मा सद्गमय तमसो मा ज्योतिर्गमय और कुछ अन्य प्रार्थनाओं पर आपत्ति जताने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट के एक न्यायाधीश ने कहा, चूंकि असतो मा सद्गमय...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

परीक्षा का तनाव: भारी स्कूल बैग और जटिल पाठ्यक्रम ने विद्यार्थियों का सुकून छीन लिया (दैनिक जागरण)

[ श्रीप्रकाश शर्मा ]: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को परीक्षा पे चर्चा कार्यक्रम में देशभर से बच्चों, शिक्षकों और अभिभावकों की चिंताओं पर चर्चा की। कार्यक्रम में उन्होंने परिजनों को भी सलाह दी कि बच्चों पर अच्छे नंबर लाने का अनावश्यक दबाव न बनाएं, क्योंकि इससे ही परिस्थिति बिगड़ती है। प्रधानमंत्री ने ऑनलाइन गेम्स...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

न्यायिक प्राधिकरण का गठन न होने से बेनामी संपत्तियों के मामले अधर में अटके हैं (दैनिक जागरण)

आयकर विभाग की ओर से दी गई यह सूचना कोई बहुत उत्साहित करने वाली नहीं है कि उसने बेनामी लेनदेन (निषेध) अधिनियम के तहत अब तक 6,900 करोड़ रुपये की संपत्तियां जब्त की हं। नवंबर 2016 में जब बेनामी संपत्तियों संबंधी अधिनियम में संशोधन किया गया था तो यह माना गया था कि इसके जरिये...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

झूठ का सहारा: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को राफेल सौदे पर अनाप-शनाप बोलने से बचना चाहिए (दैनिक जागरण)

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से राफेल सौदे को लेकर किए गए दावे पर गोवा के मुख्यमंत्री और पूर्व रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर का प्रतिवाद उन्हें केवल झूठा ही नहीं साबित कर रहा, बल्कि राजनीतिक शिष्टाचार की मर्यादा का उल्लंघन करने वाला भी बता रहा है। आखिर राहुल गांधी को वह सब कहने की...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीय: खतरे का बुखार (जनसत्ता)

उत्तराखंड जैसे पहाड़ी इलाकों में भी अगर स्वाइन फ्लू का प्रकोप बढ़ रहा है, तो यह समझने की जरूरत है कि इसे कोई मौसमी रोग मान कर अनदेखी करने का नतीजा क्या हो सकता है। यों दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु और तेलंगाना में भी इस बुखार ने जिस तरह...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

संपादकीय: यमुना का जीवन (जनसत्ता)

यमुना की लगातार बिगड़ती हालत पर लंबे समय से चिंता जताई जाती रही है। इसके लिए समय-समय पर योजनाएं बनीं और हजारों करोड़ रुपए के अनुदान भी जारी हुए। लेकिन आज अगर यमुना एक स्वस्थ नदी कही जा सकने लायक नहीं है तो इसके लिए किसकी जिम्मेदारी तय होनी चाहिए? यों जिन राज्यों से होकर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

The logic behind BJP using the Ayodhya card once again (Hindustan Times)

The Union government’s decision to seek the Supreme Court’s permission to restore the excess land around the disputed Ram Janmabhoomi-Babri Masjid site to its original owners — which would mean the Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS) and Vishwa Hindu Parishad (VHP) backed Ram Janmabhoomi Nyas — is the outcome of stated ideological commitment, electoral vulnerability, and political signalling....

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register