Day: January 1, 2019

तीन तलाक विधेयक के विरुद्ध समूचा विपक्ष राज्यसभा में एकजुट (पंजाब केसरी)

तीन तलाक का मुद्दा देश में विवादास्पद मुद्दा है। मुस्लिम समाज में प्रचलित यह प्रथा पति को तीन बार तलाक बोल कर पत्नी से विवाह समाप्त करने का अधिकार देती है। ऐसे कई मामले सामने आए जिसमें लोगों ने फोन पर या फिर व्हाट्सएप के जरिए तीन बार तलाक बोल कर पत्नी से निकाह समाप्त...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

एक उदार कदम: राजस्थान सरकार का स्थानीय निकाय चुनावों के लिए शैक्षिक मापदंड (द हिंदू)

राजस्थान में सत्ता संभालने के बाद अशोक गहलोत सरकार द्वारा लिए गए पहले फैसलों में स्थानीय निकाय चुनाव लड़ने वाले उम्मीदवारों के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता को कम करना है। यह एक उदार कदम है और राज्य में आबादी के एक बड़े हिस्से को स्थानीय निकाय  चुनाव लड़ने का अधिकार प्रदान करेगी। उल्लेखनीय है कि...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

हसीना की जीत: बांग्लादेश चुनाव परिणामों पर

बांग्लादेश की प्रधान मंत्री शेख हसीना की पार्टी की जीत आनेवाले रविवार को संपन्न संसदीय चुनाव में सुनिश्चित ही थी। वह बेहद लोकप्रिय रही हैं,  उनकी सरकार ने आर्थिक विकास और सामाजिक प्रगति हेतु नए जनादेश की मांग की थी। उनकी पार्टी अवामी लीग ने इसे चुनाव का एजेंडा बनाया और हावी रही। फिर भी,...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पिछली सदी के 19वें साल को याद करना (हिन्दुस्तान)

हरजिंदर वरिष्ठ पत्रकार उन्नीसवां साल हमेशा ही उम्र का एक महत्वपूर्ण पड़ाव होता है। 19 साल के शख्स को भले ही पूरी तरह परिपक्व न माना जाता हो, लेकिन यह वह उम्र है, जब किसी भी गुस्ताखी को नादानी कहकर नजरंदाज नहीं किया जाता। उम्र के इस मोड़ पर हर जिम्मेदारी को खुद अपने कंधों...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अराजकता के पांव (जनसत्ता)

उत्तर प्रदेश में भदोही जिले के गोपीगंज इलाके में जिस तरह एक महिला को बुरी तरह मारने-पीटने और निर्वस्त्र कर गांव में घुमाने की घटना सामने आई है, वह अपने आप में इस बात का सबूत है कि आपराधिक तत्त्वों के भीतर राज्य सरकार और प्रशासन का खौफ नहीं रह गया है। खबरों के मुताबिक...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

निगरानी की सीमा (जनसत्ता)

राष्ट्रीय सुरक्षा के नाम पर किसी भी कंप्यूटर की निगरानी जैसे कठोर कदम से मचे बवाल के बाद इस बारे में सरकार ने जो स्पष्टीकरण दिए हैं, उनसे आशंकाओं के बादल छंटेंगे, ऐसी उम्मीद है। गृह मंत्रालय ने 20 दिसंबर को एक आदेश जारी कर देश की दस खुफिया और जांच एजेंसियों को यह अधिकार...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

संयम से काम लें मुस्लिम (राष्ट्रीय सहारा)

यद्यपि तीन तलाक बिल लोक सभा में पास हो गया है परन्तु मुस्लिम समाज में इस विषय को लेकर विवाद अभी भी नहीं थमा है। इसी के चलते इस बिल को लेकर मुसलमान दो वगरे में विभाजित हो गए हैं। पहला वर्ग उन मुस्लिम बुद्विजीवियों तथा सुशिक्षित और जागरूक महिलाओं का है, जो तीन तलाक...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

Eight Things India Must Do In 2019 (TOI)

The economic challenges we face and the reforms we need to carry out now Raghuram Rajan and Abhijit Banerjee Last October thirteen of us, all economists, got together in the hope that as the country gears up for elections, we could start a conversation by identifying a set of policy ideas that might help inform...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मुक्त व्यापार को अलविदा कहने का वक्त (दैनिक ट्रिब्यून)

भरत झुनझुनवाला वर्ष 2015 में भारत ने जापान से आयातित कुछ विशेष प्रकार के स्टील पर आयात कर बढ़ा दिए थे। भारत का कहना था कि अपने घरेलू स्टील उद्योगों को बचाने के लिए जापान से हो रहे स्टील के आयात पर आयात कर बढ़ाना जरूरी था। हाल में विश्व व्यापार संगठन यानी डब्ल्यूटीओ ने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

मर्यादा का मखौल (दैनिक ट्रिब्यून)

पंजाब में लोकतंत्र की पहली इकाई पंचायत चुनाव का मतदान पर्व रविवार को हंगामों और उपद्रवों के बीच संपन्न हुआ। अच्छी बात है कि पंचायत चुनावों में लगभग 1863 सरपंच और 22 हजार पंच ऐसे हैं जो निर्विरोध निर्वाचित हुए हैं। जिस उत्साह के साथ लोगों ने चुनाव में भाग लिया, वह लोकतंत्र के लिए...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register