Category: हिन्दी संपादकीय

सामंजस्य के अर्थशास्त्र से रुकेगी ग्लोबल वार्मिंग (दैनिक ट्रिब्यून)

भरत झुनझुनवाला ग्लोबल वार्मिंग का प्रकोप हम चारों तरफ देख रहे हैं। बीते दिनों चेन्नई में पानी का घोर संकट उत्पन्न हुआ तो इसके बाद मुंबई में बाढ़ का। इन समस्याओं का मूल कारण है कि हमने अपने उत्तरोतर बढ़ते भोग को पोषित करने के लिए पर्यावरण को नष्ट किया है और करते जा रहे...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

अल्पसंख्यक समुदाय के निर्धारण का प्रश्न (दैनिक ट्रिब्यून)

अनूप भटनागर पंजाब, जम्मू-कश्मीर और पूर्वोत्तर के राज्यों में हिन्दुओं को उनकी आबादी के आधार पर अल्पसंख्यक समुदाय का दर्जा दिलाने की मांग धीरे-धीरे जोर पकड़ रही है। तर्क है कि अल्पसंख्यकों के लिये बनने वाली योजनाओं के लाभ से इन राज्यों में अल्पंख्यक होने के बावजूद हिन्दू समुदाय वंचित है जबकि इन राज्यों में...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

न्यूक्लियर पाकिस्तान (नवभारत टाइम्स)

सोमवार देर रात से पाकिस्तान ने अपने हवाई क्षेत्र को सभी तरह की असैन्य उड़ानों के लिए खोल दिया है। इसके साथ ही फरवरी में भारतीय वायुसेना द्वारा बालाकोट आतंकी ठिकाने पर की गई कार्रवाई के बाद पाकिस्तानी हवाई क्षेत्र में भारतीय उड़ानों पर लगा प्रतिबंध समाप्त हो गया है। इससे सबसे ज्यादा लाभ एयर...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जागिये सरकार! बच्चे हैं (राष्ट्रीय सहारा)

आए दिन अखबारों में बाल यौन शोषण की खबरें आ रही हैं, कई घटनाएं तो इतनी वीभत्स होती हैं कि मन तृष्णा से भर जाता है। खासकर तब जब बलात्कारी कम पढ़े-लिखे नहीं अलबत्ता, समाज का मार्गदशर्न करने वाले होते हैं। जब शिक्षण संस्थाओं और धार्मिंक संस्थाओं के भीतर धर्म गुरु ओं को यौन शोषण...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

जानिए, देवबंद से अपने किस सवाल के जवाब का इंतजार कर रहे हैं आरिफ मोहम्मद खान (दैनिक जागरण)

[ आरिफ मोहम्मद खान ]: पिछले कई दशक से जिहाद को लेकर एक बहस चल रही है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि वे संगठन जो आतंक और हिंसा की गतिविधियों में लिप्त हैं, अपने आप को मुजाहिद यानी जिहाद करने वाले कहते हैं और अपने संगठनों के लिए इस्लामी शब्दावली का प्रयोग करते हैं। यह स्वाभाविक...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आर्थिक मापदंडों पर गरीबी मापने की गलत अवधारणा से करोड़ों लोग इस त्रासदी को झेल रहे हैं (दैनिक जागरण)

[ एनके सिंह ]: अगर एक व्यक्ति की ठीकठाक आमदनी है, लेकिन उसके बच्चे स्कूल दूर होने के कारण पढ़ने नहीं जा पाते या उसे पीने का पानी तीन किलोमीटर दूर से लाना पड़ता है अथवा स्वास्थ्य सेवाओं के अभाव में उसके बच्चे पांच साल की उम्र पूरी करने के पहले ही काल के गाल...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आर्थिक संकट ने पाकिस्तान को भारतीय विमानों के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोलने के लिए किया मजबूर (दैनिक जागरण)

आखिरकार पाकिस्तान भारत के असैन्य विमानों के लिए अपना हवाई क्षेत्र खोलने के लिए विवश हुआ। ऐसा करना उसकी मजबूरी ही रही, क्योंकि अभी कल तक वह यह कह रहा था कि भारत पहले अपने लड़ाकू विमानों को सीमांत इलाकों से पीछे हटाए। यही नहीं उसने अपने हवाई क्षेत्र को बंद रखने की समय सीमा...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

प्रतिद्वंद्वी महिला सांसदों पर डोनाल्ड ट्रम्प की अनुचित नस्लवादी टिप्पणी (पंजाब केसरी)

तीन शादियां करने वाले अमरीका के 45वें राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (रिपब्लिकन) के पूर्वज उनके पिता की ओर से जर्मनी के एक गांव से और मां की ओर से स्कॉटलैंड से संबंध रखते थे। डोनाल्ड ट्रम्प पद संभालने के समय से ही अपनी विवादास्पद टिप्पणियों के चलते चर्चा में बने रहे हैं। नवम्बर, 2015 में उन्होंने...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

कितना लाभप्रद होगा युवा भारत (प्रभात खबर)

पवन के वर्मा लेखक एवं पूर्व प्रशासक आज यह हमारे मुख्य कथनों में शामिल हो चुका है कि भारत विश्व के युवा राष्ट्रों में एक है. आंकड़े यह बताते हैं कि यह दावा उचित ही है, क्योंकि हमारी आबादी के लगभग 65 प्रतिशत लोग 35 वर्षों से कम उम्र के हैं. चीन एवं जापान जैसे...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

बदलते कश्मीर का प्रमाण (प्रभात खबर)

अवधेश कुमार, वरिष्ठ पत्रकार आतंकवादी संगठन अलकायदा प्रमुख अयमान अल जवाहिरी अचानक सामने आया है. अपने 14 मिनट के वीडियो में वह कश्मीर में आतंकवाद को हवा देने की कोशिश कर रहा है. वह कहता है कि कश्मीर को हमें नहीं भूलना चाहिए. विश्लेषण किया जा रहा है कि आखिर अल जवाहिरी अचानक कश्मीर को...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register