Category: इसे भी जानें

चुनाव के लिए किसानों का एजेंडा (अमर उजाला)

वी एम सिंह यह चुनाव का समय है। ऐसे में हमें अगले पांच वर्ष का राष्ट्रीय एजेंडा स्पष्ट करने की जरूरत है। हम सब खुद को कृषि पर निर्भर समाज कहते हैं, और खेती पर देश की 130 करोड़ जनता का भोजन निर्भर है। मगर नई पीढ़ी की खेती में कोई दिलचस्पी नहीं है, क्योंकि...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

भारतीयता से दूर भागते वामपंथी (दैनिक जागरण)

[डॉ. मनमोहन वैद्य]। मेरे परिचित परिवार की एक छात्र जयपुर में पढ़ती है। जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल में वह वॉलंटियर के नाते जुड़ी थी। उसने अपना अनुभव बताया कि सभी सत्रों में वक्ताओं में और प्रबंधकों में भी ‘लेफ्ट’ का साफ प्रभाव और वर्चस्व दिखा। मुझे यह जानकर आश्चर्य नहीं हुआ, अपेक्षित था। उसने एक और...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

महिला होने का सुख (दैनिक जागरण)

हमारे पिताजी बड़े गर्व से कहते थे कि मेरी बेटियां नहीं हैं, बेटे ही हैं। हमारा लालन-पालन बेटों की ही तरह हुआ। हम सारा दिन खेलते-कूदते, क्रिकेट से लेकर कंचे तक खेलते और पढ़ाई करते। रसोई में घुसने का आग्रह भी नहीं था, बस खाना बनाना आना चाहिए, इतना भर ही था। मुझ से कहते...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

कैसे रुके नफरत (नवभारत टाइम्स)

दिल्ली और एनसीआर के कई स्कूलों ने भारत-पाक तनाव के मद्देनजर सोशल मीडिया पर चल रहे नफरत भरे अभियानों के दुष्प्रभावों से बच्चों को बचाने के लिए खास पहल की है। उन्होंने पैरंट्स से कहा है कि वे बच्चों से इस बारे में बात करें। अगर बच्चों के मन में कोई सवाल है तो वे...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

एफ-16 को ठिकाने लगाने वाला भारतीय पायलट अभिनंदन की रिहाई इमरान की मजबूरी थी (दैनिक जागरण)

[ साकेत सूर्येश ]: कुछ लोगों की समझ से युद्ध के बादल छंट गए हैं और शांति की बंसी की ध्वनि चहुंओर फैली हुई है। ऐसे लोगों की नजर में भारत का वातावरण ‘शांति के नए दूत’ इमरान की जयजयकार से गुंजायमान होने को आतुर है। समय बहुत कठिन है, चुनाव सिर पर हैं। मोदीजी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

पाकिस्तान पर तब तक दबाव बनाए रखना होगा जब तक वह आतंकियों से तौबा नहीं करता (दैनिक जागरण)

पाकिस्तान आसानी से सुधरने वाला नहीं, इसका पता उसकी उन हरकतों से चल रहा है जो वह भारतीय सीमा पर सैन्य दुस्साहस के रूप में अपनी खिसियाहट मिटाने के लिए कर रहा है। इसकी आशंका थी कि भारतीय वायुसेना की ओर से बालाकोट में किए गए गए हवाई हमले के बाद बौखलाया पाकिस्तान ऐसी हरकतें...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

ज़िंदगियां लीलती आपराधिक लापरवाही (दैनिक ट्रिब्यून)

हर्षदेव एक ही महीने में नकली ज़हरीली शराब की तीसरी घटना ने 120 से ज्यादा लोगों की ज़िंदगी छीन ली। यह दर्दनाक कांड असम के जोरहाट और गोलाघाट जिलों के पांच क्षेत्रों के करीब 40 कि.मी. इलाके की गरीब बस्तियों में कहर बरपा गया। इस त्रासदी का शिकार बने लगभग 400 लोग अस्पतालों में मौत...

This content is for Half-yearly Subscription, Yearly Subscription and Monthly Subscription members only.
Log In Register

राज्य की तस्वीर. राउंड-1: पुलवामा पर केंद्र का रुख तय करेगा राजस्थान की राजनीति (पत्रिका)

राजीव जैन जयपुर. लोकसभा चुनाव में अब कम दिन ही बचे हैं। वसंत के बाद मौसम में बढ़ती गरमाहट का अहसास अब राजस्थान के राजनीतिक पारे पर भी महसूस हो रहा है। यों तो यहां कांग्रेस और भाजपा में सदा सीधा मुकाबला है लेकिन हाल में हुए विधानसभा चुनाव में नव गठित और छोटे दलों...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

#AirSurgicalStrikes के हीरो वीएस धनोआ का झारखंड के देवघर में हुआ था जन्म

– एयर चीफ मार्शल वीएस धनोआ के जन्म के समय वर्ष 1957 में उनके पिता सारायण सिंह धनोआ देवघर में एसडीओ के रूप में थे पदस्थापित विजय कुमार, देवघर पुलवामा के शहीद सैनिकों का पाकिस्तान से बदला लेने के लिए हुए एयर स्ट्राइक के हीरो रहे भारतीय वायु सेना के प्रमुख 25वां एयर चीफ मार्शल...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register

आशंका और उम्मीद (पत्रिका)

जम्मू-कश्मीर में हालात जिस तरह बिगड़ रहे हैं, उसके बाद सरकार का सख्त फैसले लेना लाजिमी ही था। केंद्र ने घाटी में केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) की 45, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) की 35 और एसएसबी व आइटीबीपी की 10-10 अतिरिक्त कंपनियों को भेजा है। 1990 के बाद यह पहला मौका है जबकि घाटी...

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register