ढर्रे से हटकर बने (राष्ट्रीय सहारा)

विमुद्रीकरण ने वित्त मंत्री के लिए र्ढे से हटकर सोचने के हालात पैदा कर दिए हैं। अर्थव्यवस्था में मांग पैदा करने के साथ-साथ वह कराधार बढ़ाने, कॉरपोरेट करों में कमी करने, औद्योगिक क्षेत्रमें क्षेत्रवार बढ़ावे पर ध्यान केंद्रित करने के साथ ही विभिन्न सामाजिक-आर्थिक तकाजों को नया आयाम देने की दिशा में सोच सकते हैं।…

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register
Updated: December 27, 2016 — 9:32 am