राजनीतिक शरारत: जब नवरात्र में चुनाव में हो सकते हैैं, तो फिर रमजान के महीने में क्यों नहीं? (दैनिक जागरण)


यह आपत्ति एक किस्म की राजनीतिक शरारत ही है कि रमजान के महीने में आम चुनाव क्यों कराए जा रहे हैैं? यह मानने के अच्छे-भले कारण हैैं कि निर्वाचन आयोग की ओर से आम चुनाव की घोषणा होते ही कुछ राजनीतिक दलों ने खुद को मुस्लिम समुदाय का हितचिंतक जताने के लिए ही यह कहा…


This content is for Monthly Subscription members only.
Log In Register


Updated: March 12, 2019 — 1:37 PM