आस्था, आर्थिकी और राजनीति (प्रभात खबर)

रमेश नैयर, वरिष्ठ पत्रकार गाय इन दिनों राजनीति और मीडिया की चर्चाओं में है. उत्तेजित जन-समूह बूचड़खानों को बंद कराने में जुटे हैं. ऐसे में वक्त का तकाजा है कि भारतीय समाज में गाय के प्रति आस्था के साथ ही उसके पूरे अर्थशास्त्र और सामाजिक-ऐतिहासिक यथार्थ को भी समझा जाये. सर्वाधिक प्रचलित मिथक यह है कि…

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register
Updated: April 19, 2017 — 6:40 AM