चीन मतभेद वाले मसलों को किनारे कर सिर्फ उन्हीं मुद्दों को पेश करे जिससे आपसी भरोसा बढ़ सके (दैनिक जागरण)

चीनी राष्ट्रपति का भारत आगमन ऐसे समय पर हुआ है जब दोनों देशों के बीच वैसा कोई जटिल मसला नहीं है जैसा वुहान बैठक के पहले डोकलाम को लेकर था। वुहान में दोनों देशों के नेताओं के बीच हुई मुलाकात की अगली कड़ी ही मामल्लपुरम है। भारतीय प्रधानमंत्री ने चीनी राष्ट्रपति की दिल्ली के बजाय…

This content is for Monthly Subscription, Half-yearly Subscription and Yearly Subscription members only.
Log In Register
Updated: October 12, 2019 — 3:06 PM