Help Sampadkiya Team in maintaining this website

इस वेबसाइट को जारी रखने में यथायोग्य मदद करें -

-Rajeev Kumar (Editor-in-chief)

Friday, April 2, 2021

टीका लेने पर जोर दिया जाए (प्रभात खबर)

By उम्मन सी कुरियन 

 

देश में टीकाकरण अभियान जनवरी में जब शुरू हुआ, तब संक्रमण के मामले और मौत की संख्या बहुत कम थी और उसका ग्राफ तेजी से नीचे की अोर जा रहा था. इस कारण टीकाकरण को लेकर लोगों में गंभीरता नहीं थी. जबकि बीते एक सप्ताह में संक्रमितों और मौत की संख्या तेजी से बढ़ी है़ सरकार ने एज कैटेगरी को बढ़ा दिया है. पहले 45 वर्ष से ऊपर के को-मॉर्बिडिटी वाले व्यक्तिों का ही टीकाकरण हो रहा था, लेकिन एक अप्रैल से 45 वर्ष से ऊपर का कोई भी व्यक्ति टीका लगवा सकता है. अभी भी दो कारक ऐसे हैं, जिससे टीकाकरण में कमी आ रही है.



पहला, टीकाकरण के लिए निजी क्षेत्र के स्वास्थ्य केंद्र बहुत कम आगे आ रहे हैं, जिसे बढ़ाने की जरूरत है. दूसरा, टीकाकरण के लिए प्रतिदिन सुबह जितनी हम तैयारी करते हैं, उसका 60 प्रतिशत नतीजा ही हमें मिल पा रहा है.



हमारे टीकाकरण अभियान को काफी दिन हो गये हैं, लेकिन अभी भी बहुत से बुजुर्ग टीका लेने से बच रहे हैं. टीकाकरण के आंकड़े को बढ़ाने के लिए लोगों को केंद्र तक लाने की जरूरत है. इन बुजुर्गों के टीका केंद्र तक न पहुंचने का एक कारण वो खबरें हैं, जिनमें टीका लगाने के बाद लोगों के मरने की बात की गयी है. भारत एक बड़ा देश है और साढ़े पांच करोड़ से ज्यादा लोगों को अभी तक टीका लग चुका है, जबकि एक करोड़ के करीब लोगों को टीके की दोनों खुराक दी जा चुकी है.


यह बहुत बड़ी संख्या है और इनमें अधिकतर साठ वर्ष से अधिक आयु के लोग शामिल हैं. जरूरी नहीं कि टीके की वजह से ही लोगों की मृत्यु हुई हो, जैसा खबरों में प्रचारित किया जा रहा है. मृत्यु का कारण दूसरा भी हो सकता है. यहां मीडिया को जिम्मेदार होने की जरूरत है. यूरोपीय यूनियन में टीके के बाद खून का थक्का जमने जैसी खबरें आयी थी, इससे भी लोग टीका लगाने से डर रहे हैं. जबकि ऐसी घटनाओं की संख्या बहुत कम है और अभी यह प्रमाणित नहीं हुआ है कि टीका लेने के कारण ही खून में थक्के जमे हैं.


दोनों ही वैक्सीन- कोवैक्सीन और कोविशील्ड- के मेजर साइड इफेक्ट्स नहीं हैं. संक्रमित होने पर वरिष्ठ नागरिक व बीमार लोगों के मरने का खतरा ज्यादा है. लेकिन टीका लेने से मृत्यु का खतरा कम होगा, तो ऐसे लोगों को लाभ ज्यादा है. जो लो रिस्क वाले हैं, उनके कोविड से मरने का खतरा कम है. ऐसे में उनको टीके का लाभ ज्यादा नहीं मिलता है. हमारे देश में जिनको टीके का ज्यादा लाभ मिलेगा उन्हें ही इसे लगाया जा रहा है.


मामूली साइड इफेक्ट्स के डर से टीका नहीं लेना गैर-जिम्मेदाराना व्यवहार है. भारत में बेनिफिट-रिस्क रेशियो में लाभ बहुत ज्यादा और खतरा बहुत कम है. सच तो यह है कि टीकाकरण से अभी तक लोग मरे नहीं हैं, टीका लगने के बाद किन्हीं और कारणों से उनकी मृत्यु हुई है. सरकार हर मृत्यु की जांच कर रही है. टीका लगने के बाद यदि मामूली साइड इफेक्ट होता भी है, तो वह इस बात का संकेत है कि हमारा शरीर टीका लगने के बाद प्रतिक्रिया दे रहा है.


इसे नकारात्मक नहीं मानना चाहिए. भले ही टीकाकरण अभी स्वैच्छिक है, पर लोगों को जोर देकर टीका केंद्र लाने की जरूरत है. लोगों को समझाने के लिए फिल्मी सितारे, स्थानीय नेता, धार्मिक नेता आदि को बाहर आना होगा. लोगों को टीके का लाभ बताना बहुत जरूरी है, नहीं तो एक बार फिर प्रतिदिन मौत के आंकड़े हजार पहुंच सकते हैं. ऐसा न हो इसके लिए टीका लगाने वालों की संख्या में इजाफा होना बहुत जरूरी है.


हर टीकाकरण अभियान में 10 से 15 प्रतिशत तक टीका बर्बाद होता है, यह सामान्य-सी बात है. ऐसा इसलिए होता है क्योंकि टीके के हर वॉयल यानी कंटेनर में केवल एक डोज नहीं होता है. मान लीजिए कि एक वॉयल में 10 डोज है, तो उसे खोलने के बाद निर्धारित घंटे के भीतर उसे खत्म कर देना होता है, नहीं तो उसका प्रभाव खत्म हो जाता है. जब एक कंटेनर खुलता है तो टीका लेने के लिए वहां 10 लाेगों का रहना जरूरी होता है, तभी एक कंटेनर पूरी तरह इस्तेमाल हो पायेगा.


कई बार ऐसा भी होता है कि एक कंटेनर की अंतिम खुराक का इस्तेमाल नहीं होता, क्योंकि इस बात का डर होता है कि वह खुराक पूरी है या नहीं. कभी-कभी शक होता है कि निर्धारित समय से ज्यादा समय तक टीका खुला तो नहीं रह गया. ऐसे कंटेनर में बचे टीके को फेंककर नये कंटेनर से टीका लगाया जाता है.


कोराना ज्यादातर स्वस्थ युवाओं में एक सेल्फ लिमिटिंग डिजीज है, जो अपने आप आयेगा और जायेगा. दूसरी लहर में मौत की संख्या पहली लहर से कम है. यदि हम 45 वर्ष से ऊपर के अधिकांश लोगों को टीका लगा देते हैं, तो मृत्यु की संख्या सौ से कम हो सकती है, चाहे संक्रमण की संख्या कितनी भी ज्यादा क्यों न हो़ हमें बुजुर्गों को पूरी तरह सुरक्षित रखने की जरूरत है, जब तक उन्हें टीके की दोनों खुराक न मिले.


हो सकता है कि कुछ लोग टीका लेने के बाद भी संक्रमित हो जाएं, लेकिन मरने का खतरा नहीं रहेगा. एक खुराक के बाद प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत नहीं होती, उसमें समय लगता है. इस मामले में हमें कोई लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए. वायरस के न्यू वैरिएंट भी आ रहे हैं, तो इससे बचकर रहने की जरूरत है. यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम लोगों को जागरूक करें.

सौजन्य  - प्रभात खबर।

Share:

Help Sampadkiya Team in maintaining this website

इस वेबसाइट को जारी रखने में यथायोग्य मदद करें -

-Rajeev Kumar (Editor-in-chief, Sampadkiya.com)

0 comments:

Post a Comment

Copyright © संपादकीय : Editorials- For IAS, PCS, Banking, Railway, SSC and Other Exams | Powered by Blogger Design by ronangelo | Blogger Theme by NewBloggerThemes.com